अपराध

सर्जरी कराकर किन्नर बने युवक की बेरहमी से हत्या

लखनऊ। मडिय़ांव के पल्टन छावनी में किन्नरों के ढोलकिया साथी 25 वर्षीय आयुष्मान सिंह उर्फ जोया उर्फ शुभम की चाकू से गोदकर हत्या कर दी गई। बुधवार दोपहर कमरे उसका खून से लथपथ हालत में शव पड़ा मिला। हत्यारे ने चाकू से उसके सिर और शरीर पर ताबड़तोड़ हमले किए। हत्यारे ने आत्महत्या का रूप देने के लिए के लिए हाथ की नस भी काट दी। आयुष्मान पहले सामान्य युवक था दो साल पहले सर्जरी कराकर वह किन्नर बना था। परिवारीजन के आरोप पर पुलिस ने आयुष्मान के साथी पर हत्या का मुकदमा दर्ज कर लिया है और उसकी तलाश में दबिश दे रही है।

यह भी पढ़ें :-नगराम में किसान की सिर कूचकर हत्या, शव सड़क किनारे फेंक फरार हुए हत्यारे
राजाजीपुरम में रहने वाले संजीव कुमार सिंह का बेटा आयुष्मान कई सालों से किन्नरों के साथ ढोलक बजाने का काम करता था। वह पल्टन छावनी में किराए के मकान में साथी फैजान के साथ रहता था। बुधवार दोपहर कमरे से भीषण दुर्गंध आने पर पड़ोसियों ने पुलिस को सूचना दी। इंस्पेक्टर मडिय़ांव वीर सिंह पहुंचे। दरवाजा तोड़ा गया तो कमरे में खून से लथपथ हालत में शव पड़ा मिला। पुलिस ने फोरेंसिक टीम से घटनास्थल का निरीक्षण कराया और परिवारजन को सूचना दी। आयुष्मान के सिर के साथ ही शरीर के कई अन्य स्थानों पर चाकू से वार किया गया था। हाथ की नस भी काटी गई थी।

यह भी पढ़ें :-मह‍िला आइएएस ने पूर्व पति के खिलाफ दर्ज कराया मुकदमा

घटना के बाद से फैजान फरार है। आयुष्मान के पिता संजीव कुमार सिंह ने फैजान पर हत्या का आरोप लगाते हुए तहरीर दी है। इंस्पेक्टर ने बताया कि हत्या करीब दो से तीन दिन पूर्व की गई है। शव की हालत देखकर यही लग रहा है। एसीपी अलीगंज मोहम्मद अली अब्बास ने बताया कि आयुष्मान एक सामान्य युवक था। वह घर वालों से झगड़कर दो साल पहले सर्जरी कराकर किन्नर बना था। इसके बाद किन्नरों के साथ में रहकर ढोलक बजाने का काम करने लगा। हत्यारोपित की तलाश में दबिश दी जा रही है। परिवारजन ने बताया कि दो आयुष्मान पढ़ाई में बहुत अच्छा था। उसने 10वीं तक की पढ़ाई कान्वेंट स्कूल में अंग्रेजी माध्यम से की थी। इसके बाद वह किन्नरों के संपर्क में आ गया। कुछ दिन उनके साथ दिल्ली में रहा। फिर घर लौटा तो उसने आपरेशन कराकर किन्नर बनने की बात कही। घरवालों ने विरोध किया तो उसने झगड़ा करने लगा। फिर घर से भागकर उसने अपनी किसी अस्पताल में सर्जरी कराई और किन्नर बन गया। घर वालों से मिलने भी नहीं जाता था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button