Breaking News

ट्रंप की पहली प्रेस वार्ता से निकली भारतीयों के लिए ये अहम बातें

ट्रंप की पहली प्रेस वार्ता से निकली भारतीयों के लिए ये अहम बातें

नई दिल्ली। अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारतीय समयानुसार बुधवार (11 जनवरी ) को पहली बार प्रेस वार्ता की। इस दौरान उन्होंने जो संकेत दिए हैं, उससे फार्मा और आईटी सेक्टर पर बड़ा असर पड़ सकता है। उनकी प्रेस वार्ता से ये प्रमुख बातें निकल कर आईं।
प्रतिस्पर्धात्मक ड्रग प्राइसिंग की जरूरतट्रंप ने कहा कि ड्रग कंपनियां 'हत्या करके पैसे कमा रही हैं' और उन्होंने वादा किया कि इसमें बदलाव आएगा। उन्होंने जोर दिया कि वह ड्रग इंडस्ट्री को वापस अमेरिका में लेकर आएंगे। हम दुनिया में दवाओं के सबसे बड़े खरीदार हैं और अब तक हम हम इसके लिए सही से निविदाएं नहीं देते हैं।
ट्रंप ने कहा कि अमेरिकी फर्म्स बिडिंग करना शुरू करने जा रही हैं और आने वाले वर्षों में हम अरबों डॉलर बचा सकेंगे। ओबामा केयर पर बोलते हुए ट्रंप ने कहा कि कीमतें स्वीकृत हो जाने के बाद वह ओबामा केयर को वापस कर लेंगे, जिससे फार्मा कंपनियां प्रभावित होंगी। हम हेल्थकेयर को कम खर्चीला और बेहतर बनाएंगे।
आउटसोर्सिंगभारतीय निवेशकों के लिए बहुप्रतीक्षित खबर आउटसोर्सिंग पर ट्रंप का नजरिया था। ट्रंप ने साफ कर दिया कि अमेरिकी कंपनियों द्वारा नौकरियों की आउटसोर्सिंग अब नहीं की जाएगी।
इस महीने की शुरुआत में अमेरिकी कांग्रेस ने एक बिल पेश किया है, जिसमें एच1बी वीजा पर पूर्व की कोशिश की पुनः शुरू किया था। बिल के तहत एच1बी वीजा के तहत अमेरिका में काम करने वालों की न्यूनतम सैलरी 60,000 डॉलर से बढ़ाकर 1,00,000 डॉलर की जाए, ताकि वे अमेरिका में काम कर सकें। इससे भारत की आईटी इंडस्ट्री और गैर आईटी कर्मचारी प्रभावित होंगे।
नैसकॉम के प्रेसिडेंट ने ट्रंप के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि ट्रंप की सारी नीतियां अमेरिका में बिजनेस कर रही भारतीय आईटी कंपनियों के लिए बुरी नहीं हैं। उन्होंने कहा कि भारत को यह बात करने की जरूरत है कि आईटी कंपनियों से कितना व्यापार अमेरिकी अर्थव्यवस्था को मिलता है।
बॉर्डर टैक्स
ट्रंप ने कहा कि वह उस व्यक्ति के रूप में अपनी पहचान बनाना चाहेंगे, जिसने इतने रोजगार के मौके पैदा किए, जितने भगवान ने दिए थे। इसके एक कदम के रूप में वह बॉर्डर टैक्स लगाएंगे ताकि कंपनियां अपनी फैक्ट्रियों को अमेरिका से बाहर ले जाने से हतोत्साहित हों।
ट्रंप ने फिएट क्रिसलर और फोर्ड मोटर को धन्यवाद देते हुए अमेरिका में संयंत्रों के निर्माण के लिए उनकी प्रशंसा की। फिएट क्रिसलर ने इस सप्ताह की शुरूआत में अमेरिका में प्लांट लगाने और रोजगार के अवसर पैदा करने की योजना की घोषणा की थी, जबकि फोर्ड ने कहा कि वह मैक्सिको की बजाए मिशिगन में में प्लांट का विस्तार करेंगा।