Breaking News

ट्रेन में बैग चोरी करने पर यात्रियों ने लड़की के कपड़े उतारकर ली तलाशी, काट दिए बाल

ट्रेन में बैग चोरी करने पर यात्रियों ने लड़की के कपड़े उतारकर ली तलाशी, काट दिए बाल

 लड़की के पिता ने बताया कि ब्रेन ट्यूमर होने के बाद उसका दिमागी संतुलन बिगड़ गया और यूपी के सैफई अस्पताल में उसका इलाज चल रहा है।

हावड़ा-जोधपुर एक्सप्रेस के थर्ड एसी कंपार्टमेंट में दिमागी बीमारी से पीड़ित एक नाबालिग लड़की से बदसलूकी की गई। लड़की पर एक बैग चुराने का आरोप लगाकर पैसेंजर्स ने उसके कपड़े उतरवाए और उसके बाल भी काट दिए। इतना ही नहीं जब टीटीई ने उसे बचाने की कोशिश की तो पैसेंजर्स ने उससे भी बदतमीजी की। लड़की के पिता एक गरीब दिहाड़ी मजदूर हैं। लड़की स्कूली सर्टिफिकेट के मुताबिक वह 17 साल की है। उसे मंगलवार को एक स्थानीय मजिस्ट्रेट के सामने पेश करने के बाद जेल में बंद कर दिया गया था। उसके परिवार ने कहा कि पुलिस ने एफआईआर में उसकी उम्र 19 साल लिखी है।

यह घटना फिरोजाबाद और टूंडला स्टेशन के बीच हुई। यह ट्रेन आगरा जा रही थी। लड़की के पिता ने टाइम्स अॉफ इंडिया को  बताया कि ब्रेन ट्यूमर होने के बाद उसका दिमागी संतुलन बिगड़ गया और यूपी के सैफई अस्पताल में उसका इलाज चल रहा है। पिता ने बताया कि हम उसे किराए के 100 रुपये नहीं दे पाने में असमर्थ थे, इसलिए वह रविवार को ही घर से चली गई थी। आगरा फोर्ट के स्टेशन अॉफिसर ललित त्यागी ने बताया कि लड़की को बैग के साथ पकड़ा गया है, लेकिन पैसेंजर्स ने कानून अपने हाथ में ले लिया। उन्होंने टीटीई ने भी बदतमीजी की।

सरकारी रेलवे पुलिस (जीआरपी) ने इस मामले में दो मुकदमे दर्ज किए हैं। लड़की पर आईपीसी की धारा 380 (चोरी) और टीटीआई द्वारा 6 पैसेंजर्स पर लगाए गए आरोपों के मद्देनजर धारा 332, 352, 353, 507 के तहत मामला दर्ज किया गया है। टीटीई एसके शर्मा ने टीओआई से कहा कि पैसेंजर्स ने मौखिक तौर पर मुझसे अभद्रता की। यह बर्बरता थी। महिलाओं ने उसके कपड़े उतार दिए और पुरुषों ने हमला कर दिया। उन्होंने उसके बाल भी काट दिए।