Breaking News

ओम पुरी के निधन पर उठने लगे सवाल

ओम पुरी के निधन पर उठने लगे सवाल

नई दिल्ली--  फिल्म अभिनेता ओम पुरी की मौत पर पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के बाद कई सवाल खड़े हो गए हैं। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि ओम पुरी के सिर में गहरे चोट के निशान और बाएं हाथ पर भी हेयरलाइन फ्रैक्चर था।ओम पुरी शुक्रवार को अपने घर में मृत पाए गए थे। बताया गया कि दिल का दौड़ा पड़ने से उनकी मौत हुई है। हालांकि, ओम पुरी की सामान्य मौत को लेकर कई लोगों ने आशंका जताई थी।बता दें कि शनिवार को ही मुंबई पुलिस ने इस मामले में एक्सिडेंटल डेथ रिपोर्ट (ADR) का मामला दर्ज कर लिया था।पुलिस अब यह पता लगाने की कोशिश कर रही है कि इसके पीछे कोई संदिग्ध कारण तो नहीं है। ओम पुरी जिस बिल्डिंग में रहते थे, वहां का विजिटर्स रजिस्टर और सीसीटीवी कैमरे भी पुलिस ने जांच के लिए जब्त किए हैं।मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मामले की जांच में जुटी हुई पुलिस अब ओम पुरी की दूसरी पत्नी नंदिता से पूछताछ करने वाली है। ओम पुरी के निधन के मामले में पुलिस उनके दोस्त खालिद किदवई और ड्राइवर समेत कई लोगों से पूछताछ कर चुकी है।खालिद ने कहा था कि वह ओम पुरी की मौत से कुछ देर पहले देर रात तक उनके साथ ही थे। साथ ही खालिद ने इस बात का भी खुलासा किया था कि ओम पुरी उस दिन अपने बेटे इशान से मिलना चाहते थे।पूरे मामले में यह बात भी सामने आ रही है कि ओम पुरी पारिवारिक वजहों से पिछले कुछ दिनों से परेशान थे। सूत्रों के मुताबिक यह बात सामने आई है कि ओम पुरी 5 जनवरी की दोपहर से देर रात तक लगातार शराब पी रहे थे, और अपने पारिवारिक और कोर्ट-कचहरी के मसलों से बेहद परेशान थे।निधन के अगले दिन खालिद ने कहा था कि ओमपुरी का उस रात अपनी पत्नी नंदिता से फोन पर झगड़ा हुआ था और वे नंदिता को जल्दी घर आने को कह रहे थे। खालिद के मुताबिक नंदिता उस रात घर से बाहर पार्टी कर रही थीं।करीब 45 मिनट तक जब नंदिता नहीं लौटीं तो ओमपुरी शराब की बोतल और ग्लास के साथ बाहर आ गए और कार में पीने लगे। खालिद भी तब साथ थे। ड्रिंक खत्म होने के बाद खालिद लौट गए।बताते चलें कि इस बीच सोमवार को ओम पुरी के निधन के बाद चौथे पर उनकी पत्नी नंदिता और पूर्व पत्नी सीमा कपूर की ओर से दो अलग-अलग श्रद्धांजलि सभा के आयोजन ने भी आपसी तनातनी की कहानी सामने ला दी है।ओम पुरी को फिल्म 'अर्धसत्य' और 'आरोहण' के लिए बेस्ट ऐक्टर के नैशनल अवॉर्ड से सम्मानित किया गया था। 1990 में उन्हें पद्मश्री से नवाजा गया था।