Breaking News

मोहनलालगंज के चर्चित रेप-मर्डर केस के दोषी राम सेवक को आजीवन कारावास

मोहनलालगंज के चर्चित रेप-मर्डर केस के दोषी राम सेवक को आजीवन कारावास

लखनऊ-- यूपी की राजधानी लखनऊ स्‍थित मोहनलालगंज गैंगरेप मर्डर केस का फैसला ढाई साल शुक्रवार को आया। आरोपी राम सेवक को फास्ट ट्रैक कोर्ट ने दोषी करार दिया। वहीं, शनिवार को कोर्ट ने उसको आजीवन कारावास की सजा सुनाई। साल 2014 को हुए इस गैंगरेप मर्डर केस की चर्चा देश ही नहीं, बल्कि विदेशों में भी हुई थी। महिला की लाश खून से लथपथ न्‍यूड हालत में मिली थी। आगे पढ़िए पूरा मामला...
-मोहनलालगंज के बलसिंह खेड़ा प्राइमरी स्कूल में 17 जुलाई, 2014 को एक महिला की न्‍यूड लाश बरामद हुई थी। जिसकी एफआईआर वादी नोखेलाल ने अज्ञात में दर्ज कराई थी।
-जांच के दौरान महिला के साथ रेप के बाद उसकी हत्या की बात सामने आई। पुलिस ने इस वारदात में आरोपित रामसेवक यादव को शामिल होना पाया।
-21 जुलाई को उसे रेप, हत्या और सबूत मिटाने के आरोप में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।
-16 अक्टूबर, 2014 को उसके खिलाफ आईपीसी की धारा 302, 201 व 376ए के तहत कोर्ट में आरोप पत्र दाखिल किया।
-इस मामले की जांच मोहनलालगंज थाने के तत्कालीन इंसपेक्टर संतोष कुमार सिंह ने की थी।
-फास्ट ट्रैक कोर्ट ने शुक्रवार को आरोपित रामसेवक यादव को रेप के प्रयास में की गई हत्या का दोषी करार दिया।
-कोर्ट ने मुल्जिम को इस वारदात में सबूत मिटाने का भी दोषी करार दिया है।
न्यूड बॉडी की फोटो बना रहे थे पुलिसकर्मी
-पुलिस की संवेदनहीनता उससे कम बेरहम नहीं थी। महिला के पार्थिव शरीर पर दो गज कपड़ा डालने की जगह कई जिम्मेदार लोग मोबाइल से उसकी तस्वीर खींचने में जुटे थे।
-इस मामले की मॉनिटरिंग कर रहीं महिला सेल प्रभारी एडीजीपी सुतपा सान्याल से जब यह सवाल पूछा गया कि मौके पर निर्वस्त्र पड़े पीड़ित महिला के शव को घंटों ढकने का प्रयास क्यों नहीं हुआ, तो उन्होंने माना कि इस मामले में पुलिस से गलती हुई।
-तत्कालीन एसएसपी प्रवीण कुमार ने मोहनलालगंज के इंस्पेक्टर कमरुद्दीन खान और एसआई मुन्नी लाल को सस्पेंड कर दिया गया था।
3 दिन बाद गुमशुदगी की सूचनाओं से मिला था सुराग
-राजधानी पुलिस ने महिला की शिनाख्त के लिए सभी थानों से गुमशुदगियों का ब्योरा मंगाया गया था।
-मोहनलालगंज के करीब के एक थाने से पता चला कि महिला के हुलिए की एक गुमशुदगी वहां दर्ज है, जो किराए के मकान में रहती हैं।
-महिला के परिवार में 13 साल की बेटी और 6 साल का बेटा मिला। पति की मौत के बाद उनकी जगह पर ही वह नौकरी कर रही थी।
-बच्चों और महिला के मकान मालिक से जानकारी लेने के बाद पुलिस ने देवरिया में रहने वाले महिला के पिता से संपर्क किया।
-लखनऊ पहुंचे महिला के पिता और परिवार के अन्य लोग शिनाख्त कर डेड बॉडी साथ ले गए। देर रात महिला का अंतिम संस्कार कर दिया गया।